उत्तराखंड

उत्तरांचल विश्वविद्यालय ने  32 महिलाओं को हिमालयी शक्ति सम्मान से नवाजा

उत्तरांचल विश्वविद्यालय
94views

देहरादून। उत्तरांचल विश्वविद्यालय में अन्र्तराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आज हिमालयी नारी शक्ति सम्मान 2021 का आयोजन किया गया। महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती विजया बड़थ्वाल इस अवसर पर मुख्य अतिथि थी जबकि जनपद की मुख्य विकास अधिकारी सुश्री नितिका खंडेलवाल, विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री जितेन्द्र जोशी एवं कुलपति प्रो0 देवेन्द्र पाठक बतौर विशिष्ट अतिथि मौजूद थे।

समाज एवं प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए महिलाओं का सशक्त होना बहुत जरूरी है: CM

कार्यक्रम का शुभारम्भ अतिथियों द्वारा द्वीप प्रज्जवलित कर किया गया। लाॅ काॅलेज देहरादून के सेमीनार हाॅल में आयोजित सिविल सेवा, प्रान्तीय सेवा, मैडिकल सेवा, नर्सिंग सेवा, शिक्षाविद्, समाजसेवा, नवपरिवर्तन, उद्यमिता जैसे क्षेत्रों में विशेष उपलब्धियाँ प्राप्त करने वाली 32 महिलाओं को हिमालयी नारी शक्ति सम्मान 2021 से नवाजा गया।

1 श्रीमती नितिका खंडेलवाल, आई0ए0एस0 मुख्य विकास अधिकारी, देहरादन

2 श्रीमती कामिनी गुप्ता, सदस्य सचिव, राज्य महिला आयोग

3 श्रीमती मनीषा सैनी, उपायुक्त, स्टेट टैक्स

4 डा0 रूचिका गर्ग, वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ

5 श्रीमती शिवानी कौशिक गुप्ता, अध्यक्ष, सर्व महिला शक्ति

6 श्रीमती सिल्की जैन मारवाह, कार्यकारी निदेशक, तुलास इन्टीट्यूट

7 श्रीमती गगनजोत कौर मान, प्रबन्ध संचालक, दून इन्टरनेशनल स्कूल

8 सुश्री अनुराधा पंत,

9 श्रीमती शिल्पा भट्ट बहुगुणा

10 डा0 विनिता मित्तल, एक्यूप्रेशर विशेषज्ञ

11 श्रीमती राजेन्द्र कौर सौंधी, उपाध्यक्ष, गढ़ीकैन्ट केन्टोनमेन्ट बोर्ड, देहरादून

12 सुश्री स्वेता राय तलवार, सामाजिक कार्यकर्ता

13 सुश्री दिव्या अग्रवाल, निदेशक

14 सुश्री ईशा बत्रा, मनोविज्ञानी

15 सुश्री उर्मिला पंडिता, निदेशक

16 डा0 कामना गर्ग, निदेशक

17 सुश्री कल्पना अग्रवाल,

18 सुश्री अन्जु सिंघल, अध्यक्ष, गायत्री सहयोग समिति महिला संस्थान

19 सुश्री दीपिका कुकरेती वर्मा

20 सुश्री रूची सिंह, मनोविज्ञानी

21 सुश्री गिगि पाठक, निदेशक

22 सुश्री प्रिया गलाटी, निदेशक

23 सुश्री मंजु हरनाल,

24 डा0 सोनल शर्मा, एच0ओ0डी0 कम्प्यूटर साइंस, उत्तरांचल विश्वविद्यालय

25 सुश्री प्रज्ञा पंत, परिवहन टैक्स

26 सुश्री स्वीटी गुसांई, कथक डांसर

27 प्रो0 (डा0) पूनम रावत, हैड, वुमन सेल, उत्तरांचल विश्वविद्यालय

28 सुश्री नलिनी गुसांई, पत्रकार एवं पी0आर0 विशेषज्ञ

29 सुश्री सुनीता रावत

30 सुश्री विन्नी गुप्ता, चार्टर्ड एकाउंटेंट, विन्नी गुप्ता एण्ड कम्पनी

31 सुश्री दिव्या सौनी, निदेशक, जी0एस0 इंडिया डिफेन्स अकादमी

32 डा0 अनुभा पुण्डिर, सामाजिक कार्यकर्ता

इस अवसर पर श्री मनोज कुमार द्वारा रचित पुस्तक ‘आँचल बनता आसमाँ का विमोचन किया गया।

अपने सम्बोधन में लाॅ काॅलेज देहरादून के डीन डा0 राजेश बहुगुणा ने कहा कि हिमालयी नारियाँ अपनी कर्मठता, धैर्य व आन्दोलन क्षमता के लिए पूरे देश में विख्यात हैं। चिपकों आन्दोलन व उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलन सहित अनेकों ऐसे आन्दोलन हैं जो हिमालयी नारी का प्रतीक रहे हैं।

अपने सम्बोधन में मुख्य जिला विकास अधिकारी सुश्री नितिका खंडेलवाल ने कहा कि महिला सशक्तिकरण के सही मायने है कि महिला को वह चुनने की आजादी हो जो वह करना चाहती है। उन्होनें कहा कि यदि पुरूष घर के कार्य करने का विकल्प चुनता है तो दोनों को अवसर मिलना चाहिए यही सही अर्थों में समानता होगी।

अपने सम्बोधन में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 देवेन्द्र पाठक ने भु्रण हत्या, महिला-पुरूष का घटता अनुपात व महिला सशक्तिकरण पर ठोस विचार व सुझाव रखे। उन्होनें अनेकों उदाहरण देकर महिलाओं की प्राचीन व वर्तमान स्थिति को समझाया।

विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री जितेन्द्र जोशी ने बताया कि उत्तरांचल विश्वविद्यालय को अंकूरित करने से लेकर उसे संवारने व वर्तमान स्वरूप देने में मातृशक्ति का महत्वपूर्ण योगदान है। इस सबके पीछे आपकी माता जी की प्रेरणा है जिनके नाम पर सुशीला देवी सेन्टर फाॅर प्रोफेशनल स्ट्डीज एवं रिचर्स की स्थापना हुई ओर आज उत्तरांचल विश्वविद्यालय व उनके सात विभागों का सफल संचालन किया जा रहा है।

अपने सम्बोधन में महिला आयोग की अध्यक्षा श्रीमती विजया बड़थ्वाल ने कहा कि सशक्त व कमजोर महिला का भेद पढ़ी-लिखी व अनपढ़ महिला के रूप में ही नहीं अपितु निर्णय लेने में सक्षम व अक्षम के रूप में करना चाहिए। भ्रुण हत्या पर बोलते हुए उन्होनें कहा कि आखिर जब सशक्त कानून बना तो इस पर नियन्त्रण हुआ। हमें एक ऐसे समाज की संरचना करनी चाहिए जहाँ सभी निर्णायक पदों पर महिला व पुरूष बराबर हो। उन्होनें अपने भाषण में चमोली आपदा में महिलाओं के योगदान व विशेषकर जिलाधिकारी श्रीमती स्वाति भदौरिया की तारिफ की।

इस अवसर पर मुख्य रूप से श्रीमती विजया बड़थ्वाल, अध्यक्ष (केबिनेट मंत्री स्तर) उत्तराखण्ड राज्य महिला आयोग, श्रीमती निकिता खंडेलवाल, आइ0ए0एस0, मुख्य विकास अधिकारी, देहरादून, श्री जितेन्द्र जोशी, कुलाधिपति, उत्तरांचल विश्वविद्यालय, प्रो0 देवेन्द्र पाठक, कुलपति, उत्तरांचल विश्वविद्यालय, कुंवर राज अस्थाना, मुख्य संपादक, हिमगिरि, डा0 राजेश बहुगुणा, डीन, लाॅ काॅलेज देहरादून, गगनजोत कौर मान, मनोज कुमार श्रीवास्तव, कामिनी गुप्ता, मनीषा सैनी, राजेन्द्र कौर सौंधी, डा0 पूनम रावत, डा0 श्रेया गोयल, डा0 भारती रमोला, सुनील अग्रवाल, डा0 गितिका खन्ना सहित बड़ी संख्या में विश्वविद्यालय के सभी विभागों के कर्मचारीगण उपस्थित थे।

राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने दी अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएं