उत्तराखंड

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को सोशल मीडिया पर जमकर हुए ट्रोल

उत्तराखंड मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत
76views

नई दिल्ली। उत्तराखंड मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत लड़कियों के कपड़ों पर कमेंट कर विवादों में आ गए हैं। लड़कियों की रिप्ड जींस पर बयान देने के बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया जा रहा है। तीरथ के इस बयान को शर्मनाक बताकर उन पर हर तरफ से निशाना साधा जा रहा है। हाल ही में अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या नवेती सीएम तीरथ के इस बयान का ज़ोरदार जवाब दिया था।

नंदीग्राम में पदयात्रा में हुई हिंसा, धर्मेंद्र प्रधान बोले चुनाव आयोग से करेंगे शिकायत

न्यूज़ एजेंसी एएनाआई से बातचीत में जया बच्चन ने कहा

अब नव्या के बाद उनकी नानी और फिल्म अभिनेत्री रह चुकीं जया बच्चन ने भी सीएम तीरथ के इस बयान की आलोचना की है। जया बच्चन के अलावा बॉलीवुड एक्ट्रस गुल पनाग ने भी बड़े ही कूल तरीके से सीएम के इस विवादित बयान का जवाब दिया है। न्यूज़ एजेंसी एएनाआई से बातचीत में जया बच्चन ने कहा, ‘ऐसे बयान एक मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देते। जो इस पोस्ट पर बैठे हैं उन्हें कोई भी बयान देने से पहले सोचना चाहिए फिर बयान देना चाहिए। आप आज के ज़माने में ऐसे बयान दे रहे हैं। अब क्या आप किसी का कल्चर कपड़ो से डिसाइड करेंगे। ये एक घटिया सोच है तो महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों के बढ़ावा देती है।

जया बच्चन के अलावा गुल पनाग ने भी सीएम को बड़ी तहज़ीब से जवाब दिया है। एक्ट्रेस ने अपने इंस्टाग्राम पर बेटी के साथ अपनी एक फोटो शेयर की जिसमें वो रिप्ड जींस पहने दिख रही हैं। इस फोटो में गुल पनाग की बेटी ने भी जींस टॉप पहन रखा है। फोटो शेयर करने के साथ गुल पनाग ने कोई खास कैप्शन नहीं लिखा है बस एक हैशटैग का इस्तेमाल किया है जो सबकुछ कहने के लिए काफी है। एक्ट्रेस ने फोटो शेयर करते हुए लिखा है, ‘#RippedJeansTwitter’।

क्या था सीएम तीरथ का बयान :

दरअसल, देहरादून में एक वर्कशॉप के दौरान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा था, ‘रिप्ड जींस हमारे समाज के टूटने का मार्ग प्रशस्त कर रही है। इससे हम बच्चों को बुरे उदाहरण दे रहे हैं, जो उन्हें नशीले पदार्थों के सेवन की और लेकर जाते हैं।’ सीएम के इस बयान के बाद से ही बवाल मचा हुआ है। हर कोई इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहा है और सीएम के इस बताया की निंदा कर रहा है।

कोविड पर प्रभावी नियंत्रण के लिए जन जागरूकता पर विशेष ध्यान