उत्तराखंड

भारत ने की प्रीमियर एयरलाइन जेट एयरवेज के पुनरुत्थान की घोषणा

297views

देहरादून, श्री मुरारी लाल जालान कालरॉक कैपिटल के नेतृत्व वाले एक कंसोर्टियम भारत ने की प्रीमियर एयरलाइन जेट एयरवेज के एक फुल-सर्विस कैरियर के तौर पर पुनरुत्थान की घोषणा की है। जेट 2.0 प्रोग्राम का लक्ष्य प्रक्रियाओं और प्रणालियों के एक नये सेट के साथ जेट एयरवेज की पिछली प्रतिसद्धि को नया जीवन देना है, ताकि सभी रूट्स पर बेहतर क्षमता और उत्पादकता सुनिश्चित हो सके। रिजॉल्यूशन प्लान के अनुसार, जेट एयरवेज भारत में अपने सभी ऐतिहासिक घरेलू स्लॉट्स को ऑपरेट करना चाहता है और अंतर्राष्ट्रीय परिचालन दोबारा शुरू करना चाहता है अगर सब कुछ योजना के अनुसार होता है और कंसोर्टियम को सही समय पर एनसीएलटी और विनियामक अनुमोदन मिल जाते हैं, तो जेट एयरवेज के विमान साल 2021 की गर्मियाँ आने तक फिर से आसमान में उड़ते नजर आएंगे।

कौन सी होगी भारत में होने वाली कोविड-19 की पहली वैक्‍सीन?

कंसोर्टियम बीते हुए समय को दोहराना चाहता है और घरेलू तथा अंतर्राष्ट्रीय रूट्स पर परिचालन करने वाली सर्वश्रेष्ठ कॉर्पोरेट फुल सर्विस एयरलाइन होने के टैग के साथ एयरलाइन उद्योग के लिये नये मापदंड स्थापित करना चाहता है। पहले की तरह, दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु ही जेट 2.0 के हब रहेंगे।

पुनरुत्थान योजना में टियर 2 और टियर 3 शहरों में सब-हब बनाकर उन्हें सहयोग देने का प्रस्ताव है। इससे इन शहरों की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा, जेट एयरवेज को तेजी से खड़ा होने में मदद मिलेगी और भारत में टियर 2ध् टियर 3 शहरों के जरिये उड्डयन व्यवसाय को बढ़ावा देने के भारत सरकार के लक्ष्य को सहयोग मिलेगा।

जेट 2.0 के लिये कंसोर्टियम के लक्ष्य में कार्गो सेवाओं को बढ़ाने की योजना

इसके अलावा, जेट 2.0 के लिये कंसोर्टियम के लक्ष्य में कार्गो सेवाओं को बढ़ाने की योजना शामिल है, जिसमें समर्पित फ्राइटर सर्विस होगी, यह ऐसा बाजार है, जिसे अभी किसी भारतीय कैरियर से सेवा नहीं या कम मिली है। विश्व में वैक्सीन के उत्पादन के लिये एक अग्रणी केन्द्र के तौर पर भारत की पोजिशन को देखते हुए कार्गो सेवाएं इतनी जरूरी पहले कभी नहीं थीं।

कंसोर्टियम ने एक नई एयरलाइन शुरू करने के विकल्प पर सोचा था, लेकिन जेट एयरवेज में मौजूद गुणों, जैसे ऑप्टिमल फ्लाइट स्लॉट, ब्राण्ड वैल्यू, सर्वश्रेष्ठ श्रेणी की इनफ्लाइट सर्विस के लिये प्रतिष्ठा और सुरक्षा ने जेट 2.0 को अन्य विकल्पों पर बढ़त दी और यह बहुत लुभावने भी थे। कंसोर्टियम ने निर्णय लिया कि जेट एयरवेज एक स्थापित ब्राण्ड है और उसे नये सिरे से शुरू करने और इसमें दोबारा ऊर्जा देने का लाभ होगा।

श्री मनोज नरेन्दर मदनानी ने कहा

एयरलाइन के पुनरुत्थान पर टिप्पणी करते हुए जालान कालरॉक कंसोर्टियम के बोर्ड मेम्बर श्री मनोज नरेन्दर मदनानी ने कहा, ‘‘जेट एयरवेज ऐसा ब्राण्ड है, जिसका 25 वर्षों से ज्यादा का शानदार इतिहास रहा है और जेट एयरवेज को जल्द से जल्द दोबारा आकाश पर लाना कंसोर्टियम का लक्ष्य है। हम इस ब्राण्ड में ऊर्जा, उत्साह और जोश भरकर इसे दोबारा एनर्जी से  भरना चाहते हैं, इसे पहले से बड़ा और बेहतर बनाना चाहते हैं। विगत वर्षों में इस ब्राण्ड को वफादार ग्राहक मिले हैं और हम इसका महत्व बढ़ाकर इसे ताजगी देना चाहते हैं- वैश्विक सोच वाला भारतीय ब्राण्ड, उत्साही, लेकिन पेशेवर, जो नये भारत, युवा भारत का प्रतीक है।जेट एयरवेज के पुनरूत्थान से उसके ग्राहकों में दोबारा उड़ने और उसकी विश्व स्तरीय सुविधाओं का अनुभव लेने का भरोसा जागेगा।’’

जेट एयरवेज भारत का जाना-माना घरेलू उड्डयन ब्राण्ड और सबसे पुरानी निजी एयरलाइन है, जिसके परिचालन का इतिहास 25 साल से ज्यादा का है।कोविड-19 ने एवियेशन सेक्टर को बुरी तरह प्रभावित किया था, लेकिन साथ ही इस सेक्टर को अपने ठोस सुधार में मदद मिली और संकाय के सदस्यों को इस सेक्टर में प्रवेश करने का मौका मिला। इस संकाय की सबसे बड़ी ताकत मानव पूंजी है और यह उन सर्वश्रेष्ठ उड्डयन पेशेवरों को साथ ला रहा है, जिन्हें जेट 2.0 के संचालन और प्रबंधन के लिये वैश्विक अनुभव प्राप्त है।

जेट 1.0 के सभी साझीदारों से सहयोग मिलने का भरोसा

कंसोर्टियम को एनसीएलटी और विनियामक अनुमोदनों की प्रतीक्षा है, जिनमें नागरिक उड्डयन मंत्रालय और डीजीसीए द्वारा स्लॉट को मजबूत बनाना और बाइलेटरल ट्रैफिक राइट्स शामिल हैं।मंत्रालय के साथ शुरुआती चर्चा अत्यंत सकारात्मक रही है। कंसोर्टियम सभी साझीदारों के साथ मिलकर मैत्रीपूर्ण ढंग से काम करना चाहता है और जेट एयरवेज के हितों तथा उसके परिचालन की दोबारा शुरुआत को सर्वोच्च प्राथमिकता दे रहा है। कंसोर्टियम को जेट 1.0 के सभी साझीदारों से सहयोग मिलने का भरोसा है और वह निश्चित रूप से जेट एयरवेज के सभी ग्राहकों और वेंडरों का भरोसा दोबारा प्राप्त करेगा।

राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम 1973 में छेड़छाड़ और नए अंब्रेला एक्ट के का विरोध