उत्तराखंड

मुख्यमंत्री ने हरिद्वार कुंभ में तीसरे शाही स्नान पर सभी श्रद्धालुओं को दी शुभकामनाएं 

मुख्यमंत्री
26views

देहरादून।  मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हरिद्वार कुंभ में तीसरे शाही स्नान ‘मेष संक्रांति’ के अवसर पर सभी श्रद्धालुओं को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि हरिद्वार महाकुंभ 2021 के प्रथम और द्वितीय शाही स्नान का आयोजन सुरक्षित और सफलतापूर्वक संपन्न हो गया है। हरिद्वार कुंभ 2021 में आयोजित शाही स्नान में संत समाज से लेकर श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाकर पुण्य लाभ अर्जित किया और सभी राज्य सरकार की ओर से की गई व्यवस्थाओं से संतुष्ट नजर आए। भगवान बदरी विशाल, बाबा केदार और गंगा मैया के आशीर्वाद से शाही स्नान भी सफलतापूर्वक संपन्न होगा, मुझे इसका पूर्ण विश्वास है।

रात्रि कर्फ्यू को रात 10 बजे की बजाय साढ़े दस बजे से लागू करने के निर्देश

श्रद्धालुओं के लिए भी अलग से स्नान की व्यवस्था

कुंभ मेले में तृतीय शाही स्नान के दौरान साधु-संतों और श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े, इसके लिए राज्य सरकार ने चाक-चौबंद व्यवस्था कर रखी है। कुंभ में व्यवस्थाएं सुचारू रूप से संचालित करने के लिए हर अखाड़े के स्नान का समय पहले से निर्धारित कर दिया गया है। इसके साथ ही अन्य श्रद्धालुओं के लिए भी अलग से स्नान की व्यवस्था की गई है। सभी सुरक्षा कर्मी, सफाई कर्मी, मेडिकल स्टाफ आदि अपना कार्य पूरी मुस्तैदी से कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने तृतीय शाही स्नान के लिए आने वाले सभी श्रद्धालुओं से अनुरोध किया कि कोविड को लेकर भारत सरकार द्वारा तय की गई गाइडलाइन का पालन अवश्य करें। सभी श्रद्धालु मास्क पहनें, सामाजिक दूरी बनाए रखें और समय-समय पर हाथों को सैनिटाइज भी करते रहें।

डॉ. भीमराव आंबेडकर की जयंती पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने भारत रत्न डॉ. भीमराव आंबेडकर की जयंती पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं। डॉ.भीमराव आंबेडकर जयंती की पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा है कि भारतीय लोकतंत्र में संविधान निर्माता बाबा साहेब आंबेडकर का महत्वपूर्ण योगदान है। वे जीवन पर्यंत मानवता की सेवा में समर्पित रहे। बाबा साहेब का यह सपना था, कि भारत में जातिवाद खत्म हो, सामाजिक समानता के अवसर हों, अधिकारों की रक्षा हो। हमारे संविधान में देश के प्रत्येक नागरिक को, चाहे वह किसी भी जाति, संप्रदाय या पंथ से हो, समानता का अधिकार प्राप्त है। यह बाबा साहेब की ही देन है।

पूरे देश में कोरोना से मचा हाहाकार, गुजरात में बढ़ रहे कोविड केसेस