उत्तराखंड

मुख्य सचिव ओमप्रकाश की अध्यक्षता में राज्य प्राधिकृत समिति की बैठक

राज्य प्राधिकृत समिति की बैठक
366views
देहरादून: मुख्य सचिव ओमप्रकाश की अध्यक्षता में उनके सचिवालय सभागार में उत्तराखण्ड उद्यम एकल खिड़की सुगमता एवं अनुज्ञापन अधिनियम-2012 के अन्तर्गत राज्य प्राधिकृत समिति की बैठक आयोजित की गयी।बैठक में समिति द्वारा कुल 100.89 करोड़ रूपये के चार निवेश प्रस्तावों को सैद्वान्तिक सहमति दी गयी।
12.45 करोड़ रूपये के निवेश प्रस्ताव
इन निवेश प्रस्तावों में सेलाकुई अनुज्ञापन अधिनियम-2012(देहरादून) में फॉर्मासिटिकल और बॉटनिकल प्रोडक्ट निर्माण से सम्बन्धित M/S HFA Formulation Pvt Ltd के 25 करोड़ रूपये के,  काठगोदाम(नैनीताल) में  M/S  शारदा हॉस्पिटलिटी  LLP  के 17.44 करोड़ के,  खैराड़ पट्टी लालूर (टिहरी गढ़वाल) में  M/S किमाया हिमालय बेवरेज  LLP के 46 करोड़ रूपये के   तथा सौर विद्युत उत्पादन से जुड़ी  M/S रायसन एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड का सतपुली (पौड़ी) में 12.45 करोड़ रूपये के निवेश प्रस्ताव सम्मिलित है।
मुख्य सचिव ने पार्टिकल और फाइबर बोर्ड बनाने वाली कंपनी  M/S उषा एल्युमिनियम  Pvt Ltd  द्वारा काशीपुर (ऊधमसिंहनगर) में प्रस्तावित निवेश प्लान्ट के सम्बन्ध में निर्देश दिए कि यदि इन निवेश प्रस्तावों के लिए सड़क की वांछित चौड़ाई के अनुरूप भूमि उपलब्ध हो जाती है तो इसकी सैद्वान्तिक सहमति पर भी विचार किया जा सकता है तथा उन्होंने इस निवेश प्रस्ताव को अगली बैठक में भूमि के प्रावधान को पूरा करवाते हुए चर्चा के लिए रखने के निर्देश दिए।

 सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को निर्देश

इस दौरान मुख्य सचिव ने उद्योग विभाग और अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये कि उत्तराखण्ड में बेहतर औद्योगिक निवेश का माहौल तैयार करने तथा राज्य की प्रकृति के अनुकुल निवेश प्रस्तावों को आकर्षित करने के लिए लगातार गंभीरता से कार्य करने और इस सम्बन्ध में बेहतर प्रयास करने को कहा। उन्होंने विभिन्न विभागों को उनके स्तर से की जाने वाली विभिन्न औपचारिकताओं और प्रक्रिया को समय से पूरा करते हुए तेजी से कार्य संपादित करने के निर्देश दिये।
इस दौरान बैठक में सचिव उद्योग सचिन कुर्वे, प्रभारी सचिव राजस्व सुशील कुमार, अपर सचिव नीरज खैरवाल, श्रीमती नेहा वर्मा, विनोद कुमार सुमन, निदेशक उद्योग सुधीर नौटियाल सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।