राष्ट्रीय

AAP ने कई राज्यों में निकाय चुनाव लड़ने का किया फैसला

आम आदमी पार्टी
78views

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी धीरे- धीरे देश की राजधानी दिल्ली से बाहर आगे बढ़ रही है। AAP का यह विस्तार ऐसे समय में हो रहा है जब बीजेपी के सामने विपक्ष को लेकर सवाल खड़े किए जाते रहे हैं। आम आदमी पार्टी ने हाल ही में गुजरात नगर निगम चुनाव में शानदार एंट्री मारी और अब दिल्ली नगर निगम उपचुनाव में दूसरे दलों को उसने काफी पीछे छोड़ दिया है।

अनुराग कश्यप के घर समेत 22 ठिकानों पर इनकम टैक्स के ताबड़तोड़ छापे

आम आदमी पार्टी को जहां दिल्ली तक ही सीमित बताकर हर बार खारिज किया जाता रहा है। AAP की यह जीत चंद सीटों की हो सकती है लेकिन जिस तरीके से पार्टी निकाय चुनावों में बेहतर कर रही है उससे दूसरों की टेंशन बढ़ने वाली है और इसके कई मायने भी हैं।

जहां से पार्टी को मिलती है मजबूती वहां से AAP की एंट्री

ऐसा नहीं है कि आम आदमी पार्टी पहली बार दिल्ली से बाहर कहीं चुनाव लड़ रही हो। दिल्ली से बाहर पहले भी कई राज्यों में आम आदमी पार्टी चुनाव लड़ चुकी है। नतीजों को भी सबने देखा और यह कहा जाने लगा कि बस दिल्ली तक सीमित रहेगी पार्टी। दिल्ली समेत आप के दूसरे नेताओं को भी यह समझ आ रहा था कि चुनाव लड़ने के साथ ही साथ उन राज्यों में पार्टी को भी मजबूत करना होगा।

आम आदमी पार्टी ने निकाय चुनाव लड़ने का किया फैसला

अपने पहले के अनुभवों को देखते हुए आप ने थोड़ी रणनीति बदली और उन चुनावों से एंट्री मारी जहां से पार्टी को सबसे अधिक मजबूती मिलती है। आम आदमी पार्टी ने निकाय चुनाव लड़ने का फैसला किया। यह वह चुनाव होते हैं जहां आपको जीत मिली तो पार्टी भी मजबूत होती है। गुजरात निकाय चुनाव में AAP ने एंट्री मारी और उसे सफलता भी हाथ लगी। सूरत समेत दूसरे इलाकों में पार्टी ने बेहतर प्रदर्शन किया।

यूपी में बढ़ाएंगे टेंशन

यूपी में भी आम आदमी पार्टी लगातार अपने आपको मजबूत करने में लगी है। अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। AAP आगामी विधानसभा चुनाव से पहले संगठन के विस्तार और पार्टी को मजबूत करने में लगी है। योगी सरकार को घेरने का कोई मौका पार्टी चूक नहीं रही है। राज्यसभा सांसद संजय सिंह, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और खुद मुख्यमंत्री केजरीवाल मोर्चा संभाले हुए हैं। विधानसभा चुनाव से पहले यूपी में पंचायत चुनाव होने वाले हैं।

यूपी के पंचायत चुनाव में दूसरे दलों के साथ ही आम आदमी पार्टी भी अपने उम्मीदवार उतारने वाली है। हर जिले के हिसाब से कमेटी का गठन किया गया है और इस पर पार्टी के बड़े नेताओं की ओर से लगातार नजर रखी जा रही है। स्थानीय स्तर पर अधिक से अधिक कार्यकर्ताओं को जोड़ा जा रहा है। नेताओं की ओर से दिल्ली में मिल रही सुविधाओं की जिक्र किया जा रहा है और प्रदेश सरकार पर लगातार हमला बोला जा रहा है। यूपी में आप की मजबूती से सीएम योगी समेत दूसरे विपक्षी दलों की भी टेंशन बढ़ जाएगी।

उपचुनाव में जीत से गदगद

गुजरात नगर निगम चुनाव में मिली सफलता के बाद दिल्ली नगर निगम उपचुनाव के नतीजों से आम आदमी पार्टी गदगद है। इस उपचुनाव में आम आदमी पार्टी की ओर से पूरी ताकत झोंकी गई थी। पांच में से चार सीटें आम आदमी पार्टी के पास पहले थी ऐसे में उसके सामने इन सीटों को बचाने की चुनौती सबसे अधिक थी। एक ओर जहां एमसीडी में बीजेपी का कब्जा है उसके बाद चार सीटें जीतकर आप ने आगामी एमसीडी चुनाव से पहले बढ़त हासिल कर ली है।

जम्मू कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने गुलाम नबी आजाद के खिलाफ मंगलवार को किया प्रदर्शन